घरेलू उपाय के इन नुस्खों से पीठ का दर्द हो जाएगा छूमंतर।

Posted 5 years ago in HEALTH EATING.

पीठ का दर्द समस्या आज कल ज्यादतर लोग में पाया जाता है जिसका असर पूरे शरीर पर पड़ना तय माना जाता है।

घरेलू उपाय के इन नुस्खों से पीठ का दर्द हो जाएगा छूमंतर।

पीठ का दर्द एक ऐसी स्थिति होती है जिसका असर पूरे शरीर पर पड़ना तय माना जाता है। पीठ इंसान के शरीर का ऐसा हिस्सा होती है जो पूरी तरह से रीढ़ की हड्डियों पर टिकी होती है। गर्दन से लेकर हिप तक फैली हड्डी जिस पर पीठ स्थित होती है जब इसमें दर्द हो जाता है तब बहुत तकलीफ देता है। वैसे तो गलत बैठने से लेकर चोट, मोच या मांसपेशियों में खिंचाव के चलते होने वाला दर्द एक सामान्य स्थिति माना जाता है।

एक सर्वे के मुताबिक भारत जैसे देश मे यह समस्या हर उम्र वर्ग के लोगों में देखी जाती है लेकिन कुछ मामलों में 30 से 50 साल की महिलाएं और पुरुष ऐसी समस्या से खासे परेशान रहते हैं। इस तरह की समस्या के लिए वैसे तो बहुत से कारक होते हैं लेकिन उपचार माध्यम की एक पारंपरिक विधा घरेलू नुस्खे वाकई इस समस्या में बेहद असरदार साबित होते हैं और इनका किसी तरह का कोई साइड इफेक्ट भी नही होता है। इस लेख के माध्यम से हम दर्द के प्रमुख कारणों से लेकर उपचार के ऐसे तरीकों पर प्रकाश डालेंगे जिनसे लाभ मिलना तय है।

पीठ दर्द के प्रमुख कारण।

खान पान में सुधार ना लाने से भी पीठ के दर्द की समस्या हो जाना बड़ा कारण माना जाता है। एक जगह लगातार खड़े होकर काम करने के साथ ही भारी वजन उठाने पर भी दर्द पैदा हो सकता है। चोट या मोच आने के साथ ही दर्द का उठना एक बड़ा कारण तो माना जाता है लेकिन शरीर मे मौजूद यूरिक एसिड दर्द का बड़ा कारण बन जाता है। शरीर मे मौजूद टॉक्सिन्स भी हड्डियों में दर्द का बड़ा कारण बन जाता है। फेफड़ों के रोग भी पीठ दर्द का बड़ा कारण माने जाते हैं। हालांकि कई बार पीठ में समस्या हृदय रोगों की तरफ भी इशारा करती है।

घरेलू उपचार से पीठ दर्द का उपचार।

पीठ दर्द की समस्या से जूझते लोग तुरंत फौरी राहत की दवाओं का इस्तेमाल करते हैं। इंसानी आदतें उन्हें और बीमार बना देती है। वास्तव में घरेलू उपचार के कुछ ऐसे नुस्खे मौजूद हैं जिन्हें अपनाकर काफी हद तक ऐसी समस्याओं से निजात पाई जा सकती है।

पीठ दर्द में गर्म पट्टी का इस्तेमाल।

गर्म पट्टी एक ऐसा उपाय होता है जिसके प्रयोग से हड्डियों में रक्त संचरण तेज हो जाता है। रक्तचाप तेज होने के साथ ही पीठ की हड्डियों में नई ऊर्जा का प्रवाह होता है। मांसपेशियों में खिंचाव के साथ ही खून का सही संचरण होने के चलते पीठ का दर्द समाप्त होने लगता है। जब भी इस तरह के दर्द का अनुभव हो तब गर्म पट्टी का प्रयोग करना आरंभ कर दें। करीब एक महीने तक गर्म पट्टी को बांधने से समस्या दूर होने लगती है।

अरंडी तेल से मालिश दिलाए पीठ दर्द से राहत।

पीठ दर्द में अरंडी का तेल काफी असरदार होता है। अरंडी के तेल में 1 चम्मच जैतून का तेल मिलाकर दिन में 2 से 3 बार पीठ पर मसाज करना चाहिए। पीठ पर मसाज करने के साथ एक बात ध्यान देने वाली होती है कि कभी भी ताकत लगाकर मसाज ना करें। फेफड़ों के संक्रमण की वजह से होने वाले दर्द में इस तेल की मालिश काफी असरदार साबित होती है। अरंडी का तेल दर्द समाप्त करने के साथ ही सूजन भी कम करने का काम करता है। इसके लगातार प्रयोग से पीठ में नई ऊर्जा का संचार होने लगता है और हड्डियों में मौजूद ऊतकों की सुरक्षा भी होती है।

काली मिर्च और तुलसी के पत्तों का सेवन।

काली मिर्च और तुलसी के पत्तों में प्राकृतिक पेन किलर के साथ ही एन्टी ऑक्सीडेंट मौजूद होता है। इसके सेवन से शरीर मे मौजूद अवशिष्ट पदार्थ पसीने ओर पेशाब के माध्यम से बाहर निकल जाते हैं। 5 से 7 काली मिर्च के साथ 19 से 15 तुलसी के पत्तों का काढ़ा बनाकर पीने से फेफड़ों और सीने के संक्रमण दूर हो जाते हैं। यह ऐसा पदार्थ होता है जो वात और कफ जैसे रोगों को समाप्त कर पीठ दर्द से आराम दिलाने का काम करता है। इस तरह से करीब एक सप्ताह तक इस काढ़े का सेवन काफी आराम दिलाता है।

पीठ दर्द से संबंधित जरूरी सुझाव ओर सलाह।

पीठ दर्द में घरेलू नुस्खे वाकई काफी असरदार होते हैं। जिनका किसी भी तरह का कोई साइड इफेक्ट नही होता। हालांकि इनकी मात्रा ओर दवाओं का सेवन करने की विधि के बारे में सटीक जानकारी आवश्यक होती है। सुझाव के तौर पर इस तरह के डेढ़ से परेशान इंसान को कैल्शियम की मात्रा का भरपूर सेवन करने की आदत डालनी चाहिए। इसके अलावा जब भी खड़े हों या बैठे, रीढ़ की हड्डियों को सीधा करके बैठे रहें। पानी के साथ दूध की मात्रा का भरपूर सेवन करें। मौसमी फलों का सेवन सहित कैल्शियम युक्त भोजन करना हड्डियों के लिए काफी लाभदायक होता है।

Joints painhealers

Living in India

Comments

Picture


EXPLORE MORE INTEREST